साल का आख़िरी दिन – २०२०

बीता जो साल ये 
क्या कुछ दे गया
सोचा क्या पाया क्या 

ख़ाली गया साल ये
क्या कुछ बता गया
समय से बलवान क्या

रुला गया साल ये 
क्या कुछ खो गया
मृत्यु से अधिक सच क्या

डरा गया साल ये
क्या कुछ ले गया
बढ़ी धड़कन से तेज क्या
 

अनभिज्ञ नया साल ये
जाने कैसा जाएगा
ज़िंदगी से बड़ा क्या 

ख़ुशहाली भरा हो साल ये 
नया अन्दाज़ दिखाएगा
अपनो के होने से महत्वपूर्ण क्या
 

सबको दे नए आयाम खड़ा साल ये 
अपना वादा ज़रूर निभाएगा 
अच्छे स्वास्थ्य से सच्चा दोस्त क्या 

 

Leave a Reply